Depression kya hai:-

डिप्रेशन हमारे मन की ऐसी दशा को व्यक्त करती है जिसमे हम मानसिक रूप से उदास और शारीरिक रूप से निष्क्रिय अनुभव करने लगते है।ऐसी दशा हमारी तब होती है जब हम किसी कार्य को करने में असफल हो जाते है या जब हम पूरी तरह निराशावादी बन गए होते है।यह निराशावादी सोच हमे आत्महत्या जैसी स्थिति तक विवश कर देती है।यदि आप डिप्रेशन का शिकार है तो घबराइये नही क्योंकि डिप्रेशन का पक्का इलाज है।जी हाँ depression ka pakka ilaj संभव है।इस पोस्ट में हम इन्ही कुछ प्रमुख बिंदुओं पर बात करेंगे जिसमे डिप्रेशन के लक्षण और उपाय, और डिप्रेशन कैसे ठीक होता है आदि प्रमुख है।

डिप्रेशन का पक्का इलाज



डिप्रेशन क्यों होता है :-

कई बार जीवन मे ऐसी घटनाएं घट जाती है जो जीवन भर के लिए हमे मानसिक अवसाद या डिप्रेशन में डाल देती है जैसे जन्म से जुड़ी कोई घटना या लड़कियों में बांझपन की बीमारी,गरीबी,भुखमरी, कोई गंभीर शारीरिक बीमारी जैसे पोलियो, एड्स,कैंसर से ग्रस्त हो जाना।जीवन मे कई सारे ऐसे परेशानी है जो डिप्रेशन होने के कारण बन सकते है।

1.जीवन मे घटी कोई अप्रिय घटना:-युवाओ में डिप्रेशन होने के कई कारण हो सकते है जैसे प्यार में धोखा खाना,बेरोजगार होना,अशिक्षित होना,प्रतियोगी परीक्षाओं में लगातार असफल होने,पैसो की तंगी होना ,चोरी करना,रेप से पीड़ित होना, दुसरो द्वारा चिढ़ाया जाना आदभी डिप्रेशन के प्रमुख कारण होते है।बाल्यकाल में घटी ऐसी कोई घटना जब हम तिरस्कार के पात्र बन या शारीरिक,मानसिक,अथवा लैंगिक प्रताड़ित हुए रहे हो या फिर माता पिता द्वारा ही बच्चों के बीच यदि भेदभाव किया जाता है तो यही स्थिति किशोरावस्था में डिप्रेशन के रूप में बाहर निकलती है।
2.व्यक्तिगत व्यवहार :- स्थान परिवर्तन भी डिप्रेशन की वजह बन सकती है जिसका प्रमुख कारण है हमारा उन नए जगहों में खुद को एडजस्ट नही कर पाना।इसके कारण शर्मीलापन,डर,गुस्सा,अकेलापन, जलन,शर्मिंदगी, तनाव आदि व्यवहार हमारे जीवन मे शामिल हो जाते है जिसके कारण यह सब डिप्रेशन की ओर हमे धकेल देते है।

डिप्रेशन के लक्षण और उपाय:-

डिप्रेशन के सामान्य लक्षण :-
1.अवसादग्रस्त व्यक्ति स्वयं को निराशावादी बना लेता है।उसे अपने जीवन मे किसी से भी कोई आशा नही रहती।
2.डिप्रेस व्यक्ति के शरीर मे अवांछित परिवर्तन होते है जैसे एकाएक शरीर का वजन कम होते जाना, या बढ़ते जाना।
3.डिप्रेस व्यक्ति में एकाग्रता की कमी पाई जाती है।वह मानसिक रूप से अशांत रहता है जिसके कारण वह किसी भी काम में सफल नही हो पाता।
4.ऐसे व्यक्ति बहुत जल्दी ही क्रोधित हो जाते है और किसी भी अन्य व्यक्ति पर अपना सारा क्रोध उत्तर देते है।क्रोध के साथ चिड़चिड़ापन भी व्यक्ति के व्यवहार में शामिल हो जाता है।यही डिप्रेशन का लक्षण होता है।
5.मानसिक अवसाद व्यक्ति को चैन से सोने भी नही देता।ऐसे व्यक्ति को किसी भी समय मे नींद आ जाती है अथवा ये रात रात भर भी नही सो पाते।समय पूर्व नींद खुल जाने से दुबारा नींद नही आ पाती।
6.शरीर मे ऊर्जा की कमी डिप्रेशन का लक्षण दिखती है।डिप्रेस व्यक्ति शारीरिक रूप से निष्क्रिय होने के कारण स्वयं को ऊर्जाहीन अनुभव करने लगता है।
7.शरीर की निष्क्रियता के कारण डिप्रेस व्यक्ति का जीवन के प्रति मोह कम हो जाता है।वे जीवन को निराश महसूस करने लगते हैं।किसी भी प्रकार के काम मे रुचि नही दिखाते।
8.डिप्रेशन व्यक्ति को घर परिवार और समाज से दूर कर देता हैं।ऐसे व्यक्ति स्वयं को अकेला समझने लगते है
9.डिप्रेस्ड व्यक्ति से बात करते वक्त उनका ध्यान बातों में नही होता।वो आपके साथ होते हुए भी नही होते है,क्योकि उनका मन विचलित रहता है।
10.डिप्रेशन में आ जाने से व्यक्ति हर वक्त तनाव में रहता है जिस कारण ब्लडप्रेसर लेवल भी कम हो जाता है और व्यक्ति बेहोशी के हालत में आ जाता है।

Depression treatment in hindi:-

डिप्रेसन का इलाज:- डिप्रेशन का पक्का इलाज सम्भव है।यह यह भी जरूरी नही की आप किसी दवाइयों के चक्कर मे इसका इलाज खोजे।आप कुछ सामान्य दिनचर्या अपनाकर depression ka pakka ilaj कर सकते हैं। वह कैसे आइये जानते है:-
1.मित्रमंडल में ज्यादा समय बिताए।मित्र का रिश्ता भगवान द्वारा इंसान को दिया गया उपहार है क्योंकि दोस्तो की संगत इंसान की बड़ी से बड़ी परेशानी को उसके दिमाग से कुछ देर के लिए बाहर निकाल देती है।इसलिए यदि आपमे डिप्रेशन के लक्षण दिखते है तो आप दोस्तों के साथ ज्यादा से ज्यादा समय बिताए।यह आपको शारीरिक और मानसिक दोनों रूप से लाभ पहुँचाएगा।


2.वो करे जिसमे आपका मन लगे।जो कार्य आपको रुचिकर लगे उसे आप वक्त दे।आज के भागदौड़ भरी जिन्दगी में व्यक्ति ने स्वयं के शौक को कही पीछे ही छोड़ दिया है।यदि आप अपने शौकिया काम को करने में वक्त निकालते है जैसे-डांसिंग,पेंटिंग, ड्राइंग, स्विमिंग, सिंगिंग, ड्राइंग, एडवेंचर ट्रिप,कुकिंग आदि कामो के लिए वक्त निकाल सकते है।

यह भी पढ़ें:-माइग्रेन को नजरअंदाज न करें


3.योग करें-योग में भारत के महत्व को सम्पूर्ण विश्व स्वीकार करता है।प्रतिदिन योग करना स्वास्थ्य को काफी हद तक प्रभावित कर सकता है।इससे हमारी नींद,निष्क्रियता, एकाग्रता, सभी पर असर पड़ता है।प्रतिदिन योग करना हमारे चित्त को एकाग्र करता है जो जमे डिप्रेशन से बाहर निकले में काफी मदद करता है।


4.नये जगह घूमने निकले:-जी हाँ!नए नए जगह घूमने जाना, एडवेंचर करना,पिकनिक जाना हमारे मन से स्ट्रेस को कम करता है।यदि आप ऑफिस वर्क करते है तो वीकेंड पे कही न कही बाहर जाने का प्लान रखें।यह वर्क टेंसन को कम करेगा जिससे जब आप अगले दिन पुनः काम पर जाओगे तो आप तरोताजा और रिचार्ज महसूस करोगे।


5.अपनी बातें शेयर करें:-काम का टेंसन हो या निजी लाइफ की परेशानी,बातो को दिल मे रखकर अपने मन को बोझिल न करे,कोशिस करे अपने मित्र,जीवनसाथी, या किसी कलीग के साथ अपने भावनाओं को साझा करें।यह आपको हल्का महसूस करने में मददगार साबित करेगा।कहते है न खुशी बाँटने से बढ़ती है और दुख बताने से कम होता है तो बस आप भी मन के परेशानियों को शेयर करे निश्चित ही आपको परेशानी से बाहर निकलने का मार्ग नजर आता दिखेगा।


महत्वपूर्ण सलाह :- याद रखें जीवन मे सुख दुख परेशानिया आती जाती रहती है।इस दुनिया मे कुछ भी स्थायी नही है।जिस तरह आप पहले खुश थे और वह दिन गुजर गया उसी तरह आज का उदास दिन भी गुजर ही जाएगा बस हिम्मत रखे और भरोसा रखें ईश्वर पर।वह आपको इस परेशानी से भी बाहर निकाल देगा।
depression kaise thik hota hai यह जानने के बाद यदि आप इन बातों का ध्यान रखे तो निश्चित ही आप डिप्रेशन का पक्का इलाज स्वयं ही कर पाएँगे।यदि पोस्ट से जुड़ा आपका कोई सवाल है तो नीचे कमेंट बॉक्स में जरूर लिखे।

2 टिप्पणियां

टिप्पणी पोस्ट करें

नया पेज पुराने