Diabetes ke lakshan kya hai जिससे हम इसकी पहचान कर पाएंगे। Diabetes या मधुमेह एक ऐसी बीमारी जो स्वस्थ दिख रहे इंसान को अगर चपेट में ले ले तो उस इंसान के जीवन का स्वाद ही बदल जाता है।यदि आपको Diabetes ke lakshan kya hai इस बारे में जानकारी होगी तो आप इसे नियंत्रित कर सकते है।

diabetes ke lakshan (डायबिटीज के लक्षण) पर बात करने से पहले मुझे लगता है कि आपको इन आंकड़ों को देखना चाहिए-
भारत की वयस्क आबादी में मधुमेह के 7.29 करोड़ मामले अनुमानित हैं। शहरी क्षेत्रों में इसकी शिकायत 10.9% से 14.2% के बीच है और ग्रामीण भारत में 20 से अधिक आयु वर्ग की आबादी में 3.0-7.8% तक देखा जा रहा है और 50 वर्ष (INDIAB अध्ययन) से अधिक आयु के व्यक्तियों में बहुत अधिक प्रचलन के साथ है।
आप इस बात से अंदाजा लगा सकते है कि Diabetes ke lakshan kya hai यह जानना हमारे लिए बेहद जरूरी है।
अब आप समझ ही गए होंगे कि हम भारतीयों को डाईबिटिज़ के लक्षण को जानना क्यों जरूरी है,ताकि हम इसके प्रति सजग रह सके

आइये बात करते है डाईबिटिज़ के लक्षण की

        Diabetes ke lakshan kya kya hain
 मूत्र का बार बार आना :- यदि आपको कम समय अंतराल में ज्यादा बार मूत्र/पेशाब लग रहा है तो यह भी Diabetes के होने का संकेत हो सकता है।

जल्दी थकान का अनुभव होना :-डाईबिटिज़ के होने से शरीर मे आवश्यक ग्लूकोज के अपघटन से ऊर्जा की प्राप्ति नही हो पाती जिससे हमें थोड़ी ही मेहनत के बाद थकान का एहसास होने लग जाता है।

शरीर के वजन में असामान्य परिवर्तन होना:- डाईबिटिज़ के प्रमुख लक्षण में सबसे पहले आता है वजन का कम या ज्यादा होना।ऐसी स्थिति में आपको अपने चिकित्सक से मिल कर सलाह अवश्य लेनी चाहिए।

घाव का जल्दी नही भरना :-Diabetes ke lakshan डाईबिटिज़ के रोगियों में जो आम समस्या होती है वह है शरीर के किसी भी अंग में चोट या घाव हो जाने पर वह जल्दी नही भरता।

नजर कमजोर होना :- डाईबिटिज़ का असर हमारी दृष्टि क्षमता पर भी पड़ता है जिसके कारण आंखों में धुंधलापन आने लगता है।

त्वचा में रूखापन आना :-डाईबिटिज़ के कारण त्वचा में इंफेक्शन और रूखापन भी आने लगता है जिससे फोड़ा फुंसी और चेहरे में मुहांसे आने लगते है।

बार बार प्यास लगना:- बार बार प्यास लगने और गला सूखने जैसे अहसास होने भी Diabetes ke lakshan में से एक है।

मसूड़ो से खून निकलना :- डाईबिटिज़ होने के दौरान मसूड़ो से खून निकलने भी इसका संकेत बताता है।यदि आप भी ऐसा लक्षण देख रहे है तो Diabetes ke lakshan हो सकते है और आपको अपने चिकित्सक से बात करनी चाहिए।

भूख बढ़ने की समस्या :- डाईबिटिज़ की पहचान यह भी है कि भोजन करने के बाद भी भूख बनी रहती है क्योंकि शरीर को आवश्यक ऊर्जा का स्रोत ग्लूकोज का अपघटन नही हो पाया और शरीर ऊर्जा की तलाश में और भोजन की इच्छा करते रहता है।जिससे भूख ज्यादा लगती है।

किडनी के खराब होने का डर :- किडनी का काम होता है शरीर के अनचाहे पदार्थों को बाहर निकालना. अगर लंबे समय तक हाई ब्लड शुगर की शिकायत हो, तो इससे किडनी ख़राब हो सकती है और किडनी के काम करने की क्षमता भी प्रभावित हो सकती है. नतीजतन शरीर में अनचाहे पदार्थ इकट्ठा होने और पैरों में सूजन होने लगती है. इतना ही नहीं, गंभीर स्थिति में किडनी खराब भी हो सकती है।

Diabetes ke lakshan को जानना ही कि रोकथाम है।हम इसे पूरी तरह खत्म तो नही कर सकते लेकिन इसे नियंत्रित किया जा सकता है।डायबिटीज के लक्षण आपको किसी भी व्यक्ति मेंं दिखे तो आप उन्हें इसकी जांच कराने की सलाह अवश्य देवे।

सलाह :- डायबिटीज की किसी भी तरह की पुष्टि आप अपने निजी चिकित्सक की सलाह लेकर ही करें एवं आवश्यक लैब जांच जरूर कराये।

Post a Comment

नया पेज पुराने